कानून-अपराध समाचार विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Save This Listing     Stumble It          
 


 पहली बार मीडिया में आकर SC के 4 जजों ने उठाए सवाल, CJI भी देंगे जवाब... (Fri, Jan 12th 2018 / 15:52:48)

देश में पहली बार न्यायपालिका में शुक्रवार को असाधारण स्थिति देखी गई. सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जजों ने मीडिया को संबोधित किया. चीफ जस्टिस के बाद दूसरे सबसे सीनियर जज जस्टिस चेलमेश्वर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कभी-कभी होता है कि देश के सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था भी बदलती है. सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरीके से काम नहीं कर रहा है, अगर ऐसा चलता रहा तो लोकतांत्रिक परिस्थिति ठीक नहीं रहेगी. उन्होंने कहा कि हमने इस मुद्दे पर चीफ जस्टिस से बात की, लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं सुनी.

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा भी इस मुद्दे पर जवाब दे सकते हैं. जस्टिस मिश्रा प्रेस कांफ्रेंस में अपने साथ अटॉर्नी जनरल को भी ला सकते हैं. हालांकि, सरकार ने अभी तक इस मामले में दूरी बनाई है. सरकारी सूत्रों की मानें, तो केंद्र अभी जस्टिस मिश्रा के किसी कमेंट का इंतज़ार कर रहा है. उसी के बाद ही सरकार अपना रुख भी सामने लाएगी.

उन्होंने कहा कि अगर हमने देश के सामने ये बातें नहीं रखी और हम नहीं बोले तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा. हमने चीफ जस्टिस से अनियमितताओं पर बात की. उन्होंने बताया कि चार महीने पहले हम सभी चार जजों ने चीफ जस्टिस को एक पत्र लिखा था. जो कि प्रशासन के बारे में थे, हमने कुछ मुद्दे उठाए थे.

चीफ जस्टिस पर देश को फैसला करना चाहिए, हम बस देश का कर्ज अदा कर रहे हैं. जजों ने कहा कि हम नहीं चाहते कि हम पर कोई आरोप लगाए. यही पहली बार है कि सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जजों ने प्रेस कांफ्रेंस की हो. प्रेस कॉन्फ्रेंस में जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ शामिल थे.

 


प्रेस कांफ्रेंस के बाद बयानबाजी तेज

यूपीए सरकार में कानून मंत्री रह चुके अश्विनी कुमार ने जज की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद कहा कि ये न्यायपालिका की छवि के लिए बड़ा नुकसान है. वरिष्ठ वकील उज्जवल निकम ने इस पूरे मामले पर कहा कि ये न्यायपालिका के लिए काला दिन है. आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद हर कोई न्यायपालिका के फैसले को शक की निगाहों से देखेगा. उन्होंने कहा कि अब से हर फैसले पर सवाल उठने शुरू हो जाएंगे.सीजेआई पर जज की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद वरिष्ठ वकील सुब्रमण्यम स्वामी बोले- पीएम मोदी को मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए.

01
02
03
04
05
06
 
 
समान समाचार  
live tv
Submit Your News
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
 
राज्य समाचार  
उत्तर प्रदेश गुजरात
छत्तीसगढ़ जम्मू और कश्मीर
दिल्ली बिहार
मध्य प्रदेश महाराष्ट्र
 
 
समाचार चैनल  
राष्ट्रीय समाचार मध्य प्रदेश
राजनीति खेल खबर
स्वास्थ्य कानून-अपराध
पंचांग-पुराण प्रेम ग्रन्थ
स्ट्रिंग आपरेसन ऐतिहासिक धरोहर
सिंहस्थ-कुंभ प्रशासनिक
सम्पादकीय प्रतिभा -सम्मान
छत्तीसगढ़ पब्लिक मीडिया मंच
रीवा,सतना,सीधी लेख- कविता
मनोरंजन धर्म -प्रथा
योग -व्यायाम बिहार
झारखंड महाराष्ट्र
जोक्स उत्तर प्रदेश
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग जीने की राह
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
 
राशिफल   
 
 
 
 
होम  | राष्ट्रीय समाचार  | योग -व्यायाम  | राजनीति  | धर्म -प्रथा  | सम्पादकीय  | महाराष्ट्र  | स्ट्रिंग आपरेसन  | ऐतिहासिक धरोहर  | प्रेम ग्रन्थ  | प्रशासनिक  | झारखंड  | पब्लिक मीडिया मंच  | खेल खबर  | मध्य प्रदेश  | रीवा,सतना,सीधी  | सिंहस्थ-कुंभ  | बिहार  | प्रतिभा -सम्मान  | स्वास्थ्य  | लेख- कविता  | कानून-अपराध  | मनोरंजन  | छत्तीसगढ़  | जोक्स  | उत्तर प्रदेश  | पंचांग-पुराण  | तेलंगाना  | मध्य प्रदेश  | गुजरात  | पुदुच्चेरी[b]  | मणिपुर  | मेघालय  | आन्ध्र प्रदेश  | महाराष्ट्र  | उत्तर प्रदेश  | सिक्किम  | गोवा  | राजस्थान  | तमिलनाडु  | अरुणाचल प्रदेश  | हिमाचल प्रदेश  | पंजाब  | मिज़ोरम  | दिल्ली  | असम  | झारखंड  | जम्मू और कश्मीर  | पश्चिम बंगाल  | उत्तराखण्ड  | छत्तीसगढ़  | हरियाणा  | कर्नाटक  | नागालैण्ड  | त्रिपुरा  | बिहार  | ओडिशा  | केरल  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें  | Live टीवी
7newsindia.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : 7newsindia.com
 
Hit Counter