मध्य प्रदेश समाचार विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Save This Listing     Stumble It          
 


 लगन के चलते बसों का आवागमन हुआ प्रभावित (Sat, Apr 28th 2018 / 18:32:02)

सन्नाटा पसरा रहा स्टैण्ड में यात्री होते रहे परेशान
सीधी l वर्ष में सबसे अधिक शादी व्याह वाला माह अप्रैल व मई दो परिवारों को जोडनें का कार्य करता है और चारों ओर खुसनुमा महौल निर्मित होता है, वहीं सूर्य की लपट मारती तीखी किरणें भी उत्सव वाले परिवार को कम प्रतीत होती हैं, किन्तु इसका दूसरा पहलू जो उभर कर सामने आता है वह यह कि यातायात व्यवस्था के अन्तर्गत सड़क मार्ग में बसों का विशेष योगदान रहता है। जानकारों की मानें तो अधिक पैसों की चाह में बस मालिकों द्वारा बिना आर टी ओ आफिस में टैक्स चुकाये व विना परमिट इशू कराये बडे ही धडल्ले के साथ निर्धारित रूट मैप से विमुख होकर बसों को शादी बरात मे भेज देते है, जिसके चलते निर्धारित रूट में यात्रा करने वाले यात्रियों को काफी मशक्कत का सामना करना पडता है। ऐसा ही महौल शनिवार को  देखने को मिला जहॉ यात्रियों को अपनी यात्रा पूरी करने हेतु घंटो इंतजार के बाबजूद भी रूट में चलनी वाली बसों के दर्शन नहीं हुए। जो बसें शादी व्याह में जाने के पूर्व रूट पर चल रहीं थीं उनमें झमता से अधिक सवारी ठूस ठूस कर भरे हुए थें साथ ही यात्रियों मनमाना यात्रा शुल्क लिया गया जिसके चलते झूमा झटकी तक की नौमत देखने को मिली, परेशान यात्रियों में चर्चा का विषय रहा कि क्या वास्तव में जिला परिवहन अधिकारी व जिला यातायात प्रभारी सिर्फ नाम के ही स्थापित किये गये है या फिर आपसी सॉठ गॉठ कर अपने कर्तव्यों से पूरी तरह विमुख हो चुके हैं।

 
 
नियमों की हो रही अनदेखी -
जानकारों की मानें तो सरकार मुसाफिरों की सुरक्षा, सुविधा, बीमा और पहचान व सावधानी के लिए चालक.परिचालक समेत बस मालिकों के लिए कई नियम निर्धारित किए हैं। लेकिन प्रशासन की अनदेखी से इसका पालन नहीं किया जा रहा है। इससे यात्रियों का सफर दिक्कतों से भरा हुआ है। निजी बसों में न तो किराया सूची लगी है और न ही रूट की जानकारी। महिला आरक्षण भी नदारद है और महिलाओं की सीट पर पुरुष यात्री बैठकर यात्रा कर रहे हैं। 
 
 
ओवर लोडिंग धड़ल्ले से जारी  -
यात्रियों के लगेज को  बसों की छत पर रखा जाता है, जिनकी ऊंचाई कईबार बहुत अधिक हो जाती है। पूर्व में जिले में यातायात प्रभारी की समझाईस पर बसों में निर्धारित सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित करवाई  गई थीं और बसों के पीछे लगी जाली हटवाकर इमर्जेंसी विंडो लगवाई गई थी। इसे भी धता बताते हुए कई बसों में पीछे शीशे के स्थान पर लोहे की चादर लगवा दी गई हैं। जिले में लोकल और बाहर से आने वाली बसों को मिला करीब एक सैकड़ा बसें चलती हैं। जिसमें कई जिला पविहन कार्यालय में पंजीकृत है निर्धारित रूटों में चलने हेतु,  नियमानुसार यात्रियों को ढोने वाली बसों व अन्य छोटे वाहनों पर उनका रूट व किराया सूची चस्पा होनी चाहिए। लेकिन जिले में चल रही अधिकांश बसों में रूट दर्ज नहीं है और किराया सूची तो किसी भी बस में नहीं लगाई गई है। छोटे वाहन भी सवारियों के हिसाब से अपने रूट निर्धारित करते हैं। जिस जगह की सवारियां अधिक मिलीं उसी तरफ  वाहन चल दिए। मेलों व अन्य आयोजनों के समय बस संचालक भी बिना सूचना के अपनी बसों का रूट बदल देते हैं।  
 
शीशे पर नहीं लिखा टोल फ्री नंबर
जानकारों की मानें तो सरकार ने भी सभी यात्री बसों के शीशों पर टोल फ्री नंबर सहित बसों के परमिट नंबर, बीमा, फिटनेस, वैद्य तारीख आदि लिखवाने के आदेश जारी किए थे। लेकिन बस मालिकों द्वारा इस आदेश का पालन नहीं किया जा रहा है। यही हाल स्कूल बसों का भी है।
 
ड्रेस कोड का नहीं हो रहा पालन
जिले में चल रही कमो.बेश सभी बसों में बस के चालक या कंडक्टर ड्रेस में नहीं रहते। शासन ने सभी यात्री बसों के चालकां व परिचालकों के लिए ड्रेस कोड व नेम प्लेट तय किए हैं। ताकि बस स्टाफ  को आसानी से पहचाना जा सके। वाहन में किसी भी तरह की असुविधा होने पर यात्री शिकायत कर सकें। साथ ही स्टाफ  द्वारा अभद्रता किए जाने पर पहचान के साथ उसका नाम मालूम चल सके। लेकिन जिले में इसका पालन नहीं हो रहा है।
 
फिटनेस पर नहीं ध्यान 
जिला मुख्यालय से गुजरने वाली अधिकांश बसें जर्जर हालत में पहुंच चुकी हैं। सवारियों को ढोने वाली इन बसों को फिटनेस सर्टिफिकेट की दरकार होती है।लेकिन जिले में इस बात पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है और न ही बसों का कभी निरीक्षण किया जाता है। यहां कि कई बसों में स्पीड मीटर सहित विभिन्न मीटर व बोनट, गियर, सीटें सभी की हालत खराब है। जुगाड़ पर टिकी ये बसें बिना रोक.टोक दौड़ रही हैं                                                                    जिले में शिलेशिलेवार हो रहे बस हादसे के बाद भी जाबबदेह अधिकारी कुभकरणीय नींद में सो रहे हैं
 
 
 

 
7newsindia.com
 
समान समाचार  
live tv
Submit Your News
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
7newsindia.com
 
राज्य समाचार  
उत्तर प्रदेश गुजरात
छत्तीसगढ़ जम्मू और कश्मीर
दिल्ली बिहार
मध्य प्रदेश महाराष्ट्र
 
 
समाचार चैनल  
राष्ट्रीय समाचार मध्य प्रदेश
राजनीति खेल खबर
स्वास्थ्य कानून-अपराध
पंचांग-पुराण प्रेम ग्रन्थ
स्ट्रिंग आपरेसन ऐतिहासिक धरोहर
सिंहस्थ-कुंभ प्रशासनिक
सम्पादकीय प्रतिभा -सम्मान
छत्तीसगढ़ पब्लिक मीडिया मंच
रीवा सम्भाग लेख- कविता
मनोरंजन धर्म -प्रथा
योग -व्यायाम बिहार
झारखंड महाराष्ट्र
जोक्स उत्तर प्रदेश
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग जीने की राह
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
 
राशिफल   
 
 
 
 
होम  | झारखंड  | धर्म -प्रथा  | स्ट्रिंग आपरेसन  | प्रतिभा -सम्मान  | महाराष्ट्र  | योग -व्यायाम  | मध्य प्रदेश  | खेल खबर  | उत्तर प्रदेश  | सम्पादकीय  | मनोरंजन  | स्वास्थ्य  | राष्ट्रीय समाचार  | पंचांग-पुराण  | जोक्स  | राजनीति  | कानून-अपराध  | लेख- कविता  | सिंहस्थ-कुंभ  | छत्तीसगढ़  | बिहार  | ऐतिहासिक धरोहर  | प्रशासनिक  | रीवा सम्भाग  | प्रेम ग्रन्थ  | पब्लिक मीडिया मंच  | गोवा  | पंजाब  | ओडिशा  | केरल  | हरियाणा  | राजस्थान  | त्रिपुरा  | महाराष्ट्र  | अरुणाचल प्रदेश  | जम्मू और कश्मीर  | मेघालय  | कर्नाटक  | उत्तर प्रदेश  | असम  | तमिलनाडु  | तेलंगाना  | दिल्ली  | गुजरात  | मिज़ोरम  | आन्ध्र प्रदेश  | मध्य प्रदेश  | छत्तीसगढ़  | उत्तराखण्ड  | पश्चिम बंगाल  | पुदुच्चेरी[b]  | हिमाचल प्रदेश  | सिक्किम  | झारखंड  | बिहार  | मणिपुर  | नागालैण्ड  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें  | Live टीवी
7newsindia.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : 7newsindia.com
 
Hit Counter